Teachers problems during lockdown

Teachers problems during lockdown

नव नियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति के 6 माह बाद भी वेतन न मिलनें से कोरोना के भीषण प्रकोप में नव नियुक्त शिक्षकों को आर्थिक संकट का सामना करना पड रहा है।
नव नियुक्त शिक्षकों के शीघ्र सत्यापन के लिए संगठन द्वारा पूर्व जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्री ओमकार राणा को दो बार पत्र देकर अनुरोध किया गया था किंतु उनकी शिक्षक विरोधी सोच व असंवेदनशीलता के कारण सत्यापन का काम सुनियोजित ढंग से नहीं कराया गया,जिससे सभी शिक्षक भटकने को मजबूर हुये। पूर्व जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के जनपद से जाने के बाद श्रीमान् प्राचार्य डायट शिवरामपुर को कार्यभार मिला किंतु कोरोना संकट में विश्वविद्यालयों में अवकाश होने के कारण आफलाइन सत्यापन नहीं हो पा रहा था।

Problems faced by teachers during covid-19

संगठन नें सम्मानित जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी महोदय को 16 मई को मांग पत्र देकर आनलाइन सत्यापन के आधार पर शपथपत्र लेकर वेतन आहरण आदेश करनें का अनुरोध किया, साथ ही 16 मई को ही प्रांतीय कार्यसमिति की बैठक में प्रांतीय अध्यक्ष जी से शासन स्तर पर इस महत्वपूर्ण मुद्दे को उठाने का अनुरोध किया गया,जिस पर उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रांतीय अध्यक्ष डा० दिनेश चन्द्र शर्मा जी द्वारा शपथपत्र लेकर वेतन आहरण आदेश करनें का अनुरोध पत्र दिया गया। संगठन के पत्र को संज्ञान में लेकर शासन स्तर से आनलाइन सत्यापन करवाकर आफलाइन सत्यापन हेतु शपथपत्र लेकर वेतन आहरण हेतु आदेश निर्गत किया, जिसके लिये अखिलेश पाण्डेय प्रांतीय संगठन मंत्री और संगठन सदस्यों द्वारा माननीय मुख्यमंत्री महोदय को धन्यवाद दिया गया। साथ ही अनुरोध किया है कि ऐसा ही मानवीय निर्णय निर्वाचन मे संक्रमित होकर मरनें वाले 1621 शिक्षक परिवार के हित मे भी लेकर मृतको को सम्मान व पीडित परिवार को सम्बल प्रदान करें।
जनपद के समस्त नव नियुक्त शिक्षकों से अपील भी किया कि भ्रस्टाचार विहीन व्यवस्था में सहयोग प्रदान करें,किसी भी काम के लिये किसी को एक भी पैसा न दें,यदि कहीं समस्या हो,कोई परेशान करे तो तत्काल संगठन को अवगत करायें,संगठन आपके सम्मान व हितों की रक्षा के लिए हर समय हर जगह उपस्थित रहेगा।

Problems faced by students during covid-19 in india

और कहा कि आपको किसी के बहकावे मे नहीं आना न किसी प्रकार के भ्रष्टाचार मे सहयोगी बनना है,क्योंकि अक्सर देखा गया है कि हमारे बैच के ही साथी कुछ लोगों से मिलकर भ्रष्टाचार की व्यवस्था में शामिल हो जाते हैं,जिससे अन्य शिक्षक फंसते चले जाते हैं।

Thanks for visiting Hindisaphar news. & reading about teachers problems during lockdown.