आसाराम बापू

बलात्कार में आरोपी आसाराम बापू ने पुनः जमानत याचिका डाली तो है, परंतु बापू की परेशानी खत्म होती नहीं दिख रही। पीड़िता को खतरा।

जमानत में गले की फांस बना पीड़िता का बाप


आसाराम ने बेशक जमानत याचिका डाली है।
परंतु जमानत के मामले में दुष्कर्म पीड़िता के पिता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।
और मुख्य आरोपी आसाराम की जमानत याचिका का कड़ा विरोध जताया है।
पिता ने देश के सबसे बडी़ पंचायत में गुहार लगाई है कि उसकी बेटी और उसके परिवार को जान माल का खतरा है।
पीड़िता के पिता ने बताया कि आरोपी ने पहले भी पीड़िता पर हमले करवाए हैं।

जानमाल का खतरा

पीड़िता पक्ष के वकील उत्सव बैंस ने दायर याचिका में कहा कि,

आसाराम बापू अत्यधिक प्रभावशाली है।
और बापू की उच्चस्तरीय राजनैतिक पकड़ भी है।
देश-विदेश में उनके लाखों अंधभक्त हैं, जो बापू के एक इशारे पर कुछ भी कर सकते हैं।
याचिका में कहा गया है कि आसाराम गवाह मिटाने के उद्देश्य से खतरनाक हत्यारे कार्तिक हलदर को हायर किया था।

गवाहों को आशाराम बापू से हमले का भय


जिसने चश्मदीदों पर जानलेवा हमला किया,और बहुत लोगों को मौत के घाट उतार दिया।
और वह पकड़े जाने पर पुलिस के सामने कबूल कर चुका है, कि बापू ने हत्या करने के लिए सुपारी दी थी।
याचिका में श्पष्ट कहा गया है कि 10 चश्मदीदों पर हमला किया जा चुका है।
और उनमें से तीन लोगों की मौत हो चुकी है। आशंका जताते हुए प्रार्थना की गई है कि अगर आसाराम को जमानत दी जाती है।
तो आरोपी आशाराम दुष्कर्म पीड़िता और उसके परिवार से बदला अवश्य लेगा।
पीड़िता के पिता ने याचिका में कहा है कि सुनवाई के दौरान उसे और उसके परिवार के सदस्यों को सबकुछ नष्ट करने की धमकी मिल चुकी थी।
बताते चलें कि दुष्कर्म के एक दूसरे मामले में
उम्रकैद की सजा काट रहे आसाराम बापू ने पिछले दिनों आयुर्वेद केंद्र में इलाज कराने का बहाना किया था।

इलाज के बहाने आसाराम बापू जगह बदलना चाहता था


इलाज कराने के बहाने जमानत के लिए आरोपी ने शीर्ष न्यायालय का रुख किया था।  
और राजस्थान सरकार ने भी जमानत देने का विरोध करते हुए कहा था,
कि आरोपी दवा कराने के बहाने अपनी हिरासत की जगह बदलना चाहता है।
और इसमें भी इसकी कोई नयी चाल है।

आसाराम द्वारा दायर की गई याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई होना तय किया गया है।

thanks

by Hindisaphar